बेतिया: कुमारबाग थानाध्यक्ष राजीव कुमार रजक और समाजसेवी मनीष कश्यप ने रविवार को कुमारबाग चौक पे मास्क वितरण किया। साथ में बेवजह सड़कों पर घूम रहे लोगों को लॉक डाउन का पालन करने के लिए समझाया। वहीं जो बिना मास्क सड़कों पर घूम रहे थे, उन्हें मास्क भी दिया गया और मास्क के उपयोगिता बारे में बताया गया। थाना के सभी पुलिस को भी एक-एक अतिरिक्त मास्क दिया गया। थानाध्यक्ष राजीव कुमार रजक ने बताया कि हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि स्थानीय लोग लॉक डाउन के नियमों का पालन करें और अपने घरों में ही रहे। जो बेवजह सड़कों पर निकल रहे हैं हम उन्हें घर में रहने के लिए समझा रहे हैं। मनीष कश्यप ने बताया कि देश को कोरोना से बचाने के लिए सरकार, प्रशासन और डॉक्टर दिन रात मेहनत कर रहे हैं। हमारा भी फर्ज बनता है कि हम इनका भरपूर साथ दे। इसलिए आज हमने 500 मास्क का वितरण कुमारबाग थाना क्षेत्र के अंतर्गत कराया गया। आगे भी हम अलग-अलग क्षेत्रों में मास्क का वितरण स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर करेंगे।

मास्क देते मनीष कश्यप व अन्य

बेतिया :युवा सेना के प्रदेश प्रमुख कुंदन पांडेय ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्रकर लिख अनुरोध किया है कि जिस प्रकार पूरे देश और पूरी दुनिया में कोरोना वायरस को लेकर मानव जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है। पूरी दुनिया की आर्थिक हालत बेहद खराब है इसी को देखते हुए किसानों के गन्ने का सीघ्र भुगतान की जाए।किसानों को आर्थिक पैकेज,दो माह का बिजली बिल और छात्रों की दो माह की फीस माफ करने की मांग की है। श्री पांडेय ने लिखे पत्र मे कहा है कि किसानों का मुख्य आय कृषि है। कोरोना से निपटने के लिए सरकार ने पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया है। किसान अपना गन्ना मिलों में गिराकर घर मे बैठे है। इस समय किसानों को गन्ना भुगतान की सख्त जरूरत है। इसको देखते हुए चीनी मिल से एक सप्ताह के अंदर बकाया गन्ना मूल्य का भुगतान सुनिश्चित कराने का आदेश दिया जाय। नही तो ऐसे में किसानों भुखमरी का सिकार होने के कगार पर है। श्री पांडेय ने लिखा है कि ताजा परिस्थितियों में सरकार को किसानों को आर्थिक पैकेज व सभी लोगों के बिजली का बिल माफ किया जाए। लॉकडाउन की वजह से किसानों के फसल बर्बाद हो रहे है। वहीं लोगों के कारोबार बंद है, लोग आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। बंदी की वजह से लोगों के सामने परिवार चलाने का संकट है। ऐसे समय प्रदेश में घरेलू बिजली के कम से कम दो माह के बिलों को सरकार माफ कर दे। वही उन्होंने कहा कि प्रदेश में जितने भी प्राइवेट स्कूल हैं, उन्हें यह निर्देशित किया जाए कि वे अगले दो महीनों तक स्कूलों की फीस माफ करें। निजी स्कूलों को जो फीस को लेकर अभिभावकों पर दबाव बना रहे हैं उन्हें रोका जाए।क्योंकि इस समय बच्चों की फीस जमा कर पाने में परेशानी होंगी।

कुंदन पांडेय, प्रदेश प्रमुख- युवा सेना बिहार
युवा सेना द्वरा मुख्यमंत्री को लिखा गया पत्र

बेतिया : पश्चिम चंपारण निवासी व ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय जयपुर के एजुकेशन एंड मेथाडोलॉजी के डीन एवं कोरोना पर अनुशंधान के लिए विश्वविद्यालय स्तर पर गठित टीम के सदस्य डॉ. शोभा लाल ने बताया कि दुनिया में कोरोना संक्रमण से हुई मौतों का प्रमुख कारण विटामिन-डी की कमी के रूप में भी सामने आया है। यह रिपोर्ट हमें भी सतर्क कर रही है, क्योंकि देश में भी बड़ी आबादी विटामिन-डी की कमी से जूझ रही है। शरीर में विटामिन-डी की स्थिति बेहतर करके हम कोरोना वायरस के खतरे को कम कर सकते हैं। ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय के कुशल मार्गदर्शन में अनुसंधान के परिणाम को प्रकाशित करके देश के विभिन्न सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों को भेज दिया गया है। विश्वविद्यालय के संस्थापक व सलाहकार तथा अनुसंधान टीम के मेंटर डॉ. पंकज गर्ग व उनकी टीम ने जो अनुसंधान के बाद मार्गदर्शिका जारी किया है। उसको अपना कर कोरोना से बचा जा सकता है। अध्ययन के दौरान ऐसा पाया गया है कि वायरस से मृत्यु का शिकार हुए मरीजों में विटामिन-डी की कमी मौत का प्रमुख कारण मिली। अंतरराष्ट्रीय जर्नल में यह शोध प्रकाशित हो चुका है। इसके मुताबिक हड्डी-मांस पेशियों में दर्द विटामिन-डी की कमी का लक्षणभर है। विटामिन-डी का शरीर में मल्टीपल रोल है। यह फेफड़े का फंक्शन दुरुस्त रखने में मददगार है, जो कि संक्रमण से भी बचाने में कारगर साबित होता है। अनुसंधान टीम के सदस्य के अनुसार शरीर की कोशिकाओं में रिसेप्टर की बांडिंग होती है। विटामिन-डी इस बांडिंग को मजबूती प्रदान करता है। विटामिन-डी की कमी से सेल्स में मौजूद रिसेप्टर साइक्लिक एएमपी, ऑक्ट 3/4, पी 53 की बांडिंग में कमजोरी आ जाती है। यहीं मौका पाकर वायरस सेल में दाखिल हो जाता है। इसके बाद फेफड़े तक पैठ बनाकर शरीर पर हमला करता है। ऐसे में यदि विटामिन-डी शरीर में ठीक है, तो वायरस से मुकाबला आसान हो जाएगा।

बेस्ट डायरेक्टर और डीन के रूप में चयनित हुए डॉ. लाल
डॉ. शोभा लाल

बेतिया : समाजसेवी चंदन सिंह को बिहार प्रदेश भ्रष्टाचार नियंत्रण एवं जन कल्याण यूथ सेल का प्रदेश सचिव नियुक्त किया गया है। इस संबंध में प्रदेश अध्यक्ष मुमताज अहमद ने पत्र जारी कर श्री सिंह को भ्रष्टाचार के खात्मा के लिए टीम बनाकर काम करने का निर्देश दिया है। श्री सिंह ने बताया कि प्रदेश से भ्रष्टाचार के खात्मा के लिए टीम बनाकर कार्य करूंगा। अब जनता का खून चूसने वाले कर्मचारियों व अधिकारियों के खिलाफ जनांदोलन चलाया जाएगा। कहा कि वह पद की गरिमा में रहकर भ्रष्टाचार उन्मूलन मुहिम के लिए कार्य करेंगे। प्रदेश स्तर पर अपनी टीम तैयार करेंगे। भ्रष्टाचार के खिलाफ युवा शक्ति खड़ी हो रही है। उन्होंने कहा कि भारतवर्ष में करप्शन के खिलाफ जागरूकता लाने का अहम कार्य किया जा रहा है।