बेतिया: शहर के आरएच स्टोन हॉस्पिटल में डॉक्टरो ने किडनी कैसर का जटिल ऑपरेशन किया। इसमे सर्जरी’ कर कैसर को हटा दिया। वही किडनी को भी बचा लिया। इस तकनीक से बेतिया में पहली बार सर्जरी हुई। इसकी जानकारी डॉक्टर हिदायतुल्लाह ने दी। उन्होंने बताया कि शिक्षा के बाद स्‍वास्‍थ्‍य सेवा हमारे जीवन के लिए सबसे महत्‍वपूर्ण है। सुविधा और धन संपन्‍न लोग तो बड़े-बड़े निजी अस्‍पतालों में लाखों खर्च कर अपना इलाज करा लेते हैं, लेकिन गरीब लोग या तो दूसरे राज्‍यों का रुख करते हैं या इलाज के अभाव में असमय ही काल के गाल में समा जाते हैं। लेकिन अब मूत्र रोग या किडनी की बीमारियों से जूझ रहे मरीजों को अब बाहर जाने की जरूरत नही है। उन्होंने बताया कि अब शहर के आरएच स्टोन अस्पताल में ही उनका उपचार संभव होगा । वहीं पथरी को बिना चीर-फाड़ के निकाला जा सकेगा। लेजर तकनीक से यह मशीन पथरी के टुकड़ों को तोड़ देगी और वह पेशाब के माध्यम से निकल जाएंगे। यह तकनीक बिना चीर-फाड़ वाली प्रक्रिया है। जिसका मतलब है कि इसमें सर्जरी की आवश्यकता नहीं होती है। लेजर लिथोट्रिप्सी में किडनी की पथरी को तोड़ने के लिए लेजर तकनीक का उपयोग किया जाता है।

बेतिया: दीपेन्द्र राय एक बार फिर जिला शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय में अपना योगदान कर लिया है। वे इसके पूर्व मोतिहारी में पदस्थापित थे। स्थानातांरण के बाद बेतिया में उन्होेंने शुक्रवार को अपना योगदान कर लिया। स्वयं जिला शिक्षा पदाधिकारी की उपस्थिति में उन्होंने लिपिक का कार्यभार संभाला। बता दें कि दीपेन्द्र राय पूर्व में भी शिक्षा विभाग में कार्य कर चुके है। कुछ माह पूर्व उनका स्थानांतरण मोतिहारी कर दिया गया था। लेकिन विभाग ने एक बार पुन: उनका स्थानांतरण स्थानीय जिला शिक्षा विभाग के कार्यालय में कर दिया है। दीपेन्द्र के स्थानांतरण से शिक्षकों में हर्ष है। कारण मृदुलभाषी लिपिक दीपेन्द्र हरेक शिक्षकों के चेहते बताए जाते है। वे शिक्षकों के काम को सहज भाव से निपटाने के लिए भी जाने जाते है।_

बेतिया : शहर के रामलखन सिंह यादव कॉलेज में  बिहार मैथमेटिकल सोसायटी के अध्यक्ष व बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के गणित विभाग के विभागाध्यक्ष तथा दूरस्थ शिक्षा निदेशालय के पूर्व निदेशक प्रो. गणेश कुमार के निधन पर शोक सभा आयोजित कर श्रद्धांजलि दी गयी। प्राचार्य डॉ राजेश्वर प्रसाद यादव ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि प्रो.गणेश कुमार एक ख्यात शिक्षाविद् व गणितज्ञ थे। उनके निधन से शिक्षा जगत में अपूरणीय क्षति हुई है। प्रो. कुमार गणेश जैसे व्यक्तित्व वाले लोग समाज में बिरले ही मिलते हैं। उनके विचारों को आत्मसात करना ही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि है। उन्होंने समाज और शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया। हमें उनके विचार पर चलने की जरूरत है। हमने अपना एक अच्छा शुभचिंतक और एक ऐसे सहयोगी को खोया है। इनकी कमी पूरी नहीं की जा सकती है। वे सिर्फ शिक्षाविद् ही नहीं, सच्चे अर्थों में समाज के प्रहरी थे। इस दौरान सबने दो मिनट का मौन भी रखा। श्रद्धांजलि सभा में डॉ अभय कुमार, डॉ कांति कुमारी, प्रो विणा सिंह, प्रो किरण कुमारी, प्रो एमएस देवराजी, प्रो अभय कुमार, महाविद्यालय के प्रधान सहायक रंजीत सिंह यादव, बनारसी यादव, कमलेश कुमार, राजकिशोर यादव, बबलू कुमार, इरफान, राकेश झा, गगनदेव यादव, गंगा यादव आदि मौजूद रहे।

निधन पर शोक सभा आयोजित
इलेक्ट्रो फिजिक्स की नरगिस बनी बिहार टॉपर

बेतिया: इंटरमीडिएट के रिजल्ट का इंतजार परीक्षार्थियों के साथ उनके अभिभावक पूरे शिद्दत से इन्तेजार था । जब रिजल्ट आया तो सफल छात्र खुशी से झूम उठे। बधाइयों का तांता लग गया। ऐसा ही इलेक्ट्रो फिजिक्स के प्रांगण का रहा। याहां सभी छात्रों ने प्रथम श्रेणी से सफलता प्राप्त की है। शहर के जाने माने इस संस्थान में दूसरे दिन रविवार को भी दिन भर जश्न का माहौल बना रहा। छात्र-छात्राओं के परिजन संस्थान में आकर यहां के निदेशक भारत भूषण को बधाई देते रहे। जिनके प्रयास से उनके बच्चों ने कामयाबी हासिल की। बता दें कि इस संस्थान ने प्रतिवर्ष बेहतर परिणाम देकर अपनी एक पहचान बना ली है। निदेशक भारत भूषण ने कहा कि यहां शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चों को बेहतर से बेहतर शिक्षा देकर उन्हें सफल छात्र बनाने का हर संभव प्रयास किया जाता है। उन्होंने बताया कि इस संस्था से नरगिस नवाज इंटर साइंस में 463 अंक लाकर बिहार में पांचवें स्थान प्राप्त की है। वहीं मिकी कुमारी को 448 अंक, पलवी कुमारी को 440 अंक, सालनी कुमारी को 433 अंक, फातिमा खातून को 422 अंक, वसीम सिद्धकी को 413 अंक, श्रेयम प्रासर को 407 अंक, अंजली सोनी को 406 अंक मिले हैं। सभी छात्र-छात्राओं ने संस्थान का आभार प्रकट किया है। साथ ही छात्र-छात्राओं के अभिभावकों ने संस्थान के बड़ी सफलता को सराहते हुए संस्थान के उज्ज्वल भविष्य की कामना की एवं संस्थान के शिक्षकों को आभार प्रकट किया।

मनाई गई विश्व क्षय रोग दिवस

बेतिया:विश्व क्षय रोग दिवस पर आमजन में टीबी के प्रति जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से जागरूकता रैली का आयोजन रविवार को डीपीएमआई के छात्रों ने की। इस दौरान डॉ राशीद सिद्दकी ने कहा कि लोगों को इसके प्रति जागरुक किया जाएगा। क्षय रोग दिवस मनाने का मुख्य मकसद ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरुक करना है। जब क्षय रोग से ग्रसित व्यक्ति बोलता, खांसता या छींकता है तब उसके साथ संक्रामक द्रोप्लेट न्यूक्लाई उत्पन्न होते हैं, जो कि हवा के माध्यम से किसी अन्य स्वस्थ व्यक्ति को संक्रमित कर सकते हैं। यह बीमारी हवा के जरिये बहुत आसानी से फैलती है।टीबी का रोग जूठा खाने से, थूकने, छींकने, संक्रमित इंजेक्शन, रोगी के उपयोग किए गए कपड़े, तौलिया इत्यादि से, गंदगी व सफाई न रखने से, शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता के कमजोर होने से व रोगी के संपर्क में रहने से फैलता है। बताया कि लगातार दो सप्ताह तक खांसी होना, बलगम में खून आना, सायं के वक्त बुखार आना और वजन का कम होना टीबी रोग के लक्षण हैं, ऐसे में अपनी जांच अवश्य करवाएं। उन्होंने कहा कि लगातार दवाईयों का सेवन करके टीबी रोग से निजात पाया जा सकता है। इसके लिए डाक्टरों द्वारा उपयुक्त कटेगरी की दवा ले। मौके पर वार्ड पार्षद तंजिर आलम, इंजीनियर किशोर कुणाल, सचिन कुमार, डॉक्टर इफ्तिखार आलम सहित छात्र मौजूद रहे।

निशुल्क चिकित्सा शिविर में मरीजों का हुआ इलाज

बेतिया: शहर के मित्रा चौक स्थित नोवा गैस्ट्रो एंड सर्जरी क्लिनिक द्वारा निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें 100 के करीब मरीजों का निशुल्क इलाज किया गया। इसके साथ ही उन्हें दवाइयां भी वितरित की गई। यही नहीं शिविर में मरीजों का शुगर टेस्ट भी मुफ्त में करवाया गया। जानकारी देते हुए डॉ. राशिद सिद्दीकी ने बताया कि चिकित्सा शिविर में हृदय, छाती, बुखार व थायराइड के मरीजों का इलाज किया गया।इसके साथ-साथ मरीजों को प्रदूषण से बचने की सलाह दी। वहीं मौसमी बीमारी से बचाव के उपाय के साथ-साथ
उन्होंने मरीजों को मौसमी बीमारी बुखार, मलेरिया,खासी, उल्टी दस्त आदि से बचाव के उपाय बताए। डा. सिद्दीकी ने बताया कि वर्तमान में मौसम के बदलाव होने के कारण बीमारी पैदा हो रही है। इसलिए अपने घरों के आसपास गंदगी न होने दें। बताया कि शिविर का मुख्य उद्देश्य इस क्षेत्र के ग्रामीणों में कार्यरत उन गरीब कामगारों की सहायता करना है जो कि पैसा खर्च करके अपना इलाज नहीं करवा सकते। उनके पास ज्यादातर मरीज ग्रामीण क्षेत्रों से आए थे। ज्यादातर मरीजों में पेट रोग के मरीज पाए गये। वही डॉ. इफ्तेखार ने मरीजों से दावा के साथ आहार पर विशेष ख्याल रखने की सुझाव दी। उन्होंने स्वस्थ जीवन के लिए व्यायाम एवं हरी सब्जी दूध नियमित सेवन पर विशेष बल दिया। मौके पर डीके शुक्ला, विकास मिश्रा, अभिषेक मिश्रा, तंजीर आलम मौजूद रहे।

स्नातक पार्ट- वन का रिजल्ट जारी

बेतिया: स्नातक टीडीसी पार्ट-वन का रिजल्ट आखिरकार जारी कर दिया गया। टीडीसी पार्ट-वन का रिजल्ट सभी कॉलेजों में भेजा जा रहा है। छात्र अपने कॉलेज में पहुंचकर इसकी जानकारी हासिल कर सकते हैं। इसी के आधार पर प्रमोटेड छात्र अपना परीक्षा फॉर्म भरेंगे। वर्ष 2018 की परीक्षा के लिए 2 जनवरी से फॉर्म भरे जाएंगे। विवि परीक्षा की तैयारी में जुट गया है। सब ठीक रहा तो 7 से 8 जनवरी तक परीक्षा कराई जा सकती है। उल्लेखनीय है कि राजभवन की ओर से लगातार विवि को निर्देश देकर हरहाल में सत्र को नियमित करने के निर्देश दिए गए हैं।

एमजेके व आरएलएसवाई कॉलेज मे नामांकन पर रोक

बेतिया: शहर के एमजेके और रामलखन सिंह यादव कॉलेज में इंटर में नामांकन पर रोक लगा दी गई है। दोनों कॉलेज नए सत्र में इंटर के किसी भी संकाय में नामांकन नहीं ले सकते हैं। वेबसाइट पर शिक्षकों की सूची अपडेट नहीं करने के कारण बिहार बोर्ड ने जिले के इन दोनों कॉलेजों में नामांकन पर रोक लगाई है। बताया जाता है कि उक्त कॉलेजों के प्राचार्य को 22 जुलाई से 31 अक्टूबर के बीच बोर्ड ने शिक्षकों की सूची अपडेट करने का 4 अवसर दिया था। बावजूद कॉलेज के प्राचार्य शिक्षकों की सूची बोर्ड को उपलब्ध नहीं कराई। मामले को गंभीरता से लेते हुए बिहार बोर्ड ने यह कार्रवाई की है।

बोर्ड से मिला 7 दिन का मौका

एमजेके कॉलेज, बेतिया

नामांकन पर लगी रोक हटाने के लिए दोनों कॉलेजों को बोर्ड ने एक और अवसर दिया है। अगर 7 दिनों के अंदर ऑनलाइन हार्ड कॉपी में शिक्षकों की सूची बिहार बोर्ड को मिल जाए तो बोर्ड निलंबन वापसी पर विचार कर सकता है। शिक्षा महकमा से प्राप्त जानकारी के अनुसार अगले 15 दिनों में इस संबंध में स्पष्टीकरण नहीं सौंपने तथा बोर्ड की वेबसाइट पर शिक्षकों की सूची अपडेट नहीं करने वाले दोनों शिक्षण संस्थानों की क्षमता भी निरस्त की जा सकती है। बोर्ड के इस फैसले के बाद दोनों कॉलेजों में हड़कंप मच गया है। शिक्षकों की सूची अपडेट करने की तैयारी शुरू कर दी गई है। एमजेके कॉलेज के प्राचार्य डॉ हरिनारायण ठाकुर ने बताया कि नियत समय में सूची भेजने की तैयारी की जा रही है। उन्हें पूरा विश्वास है कि आने वाले सत्र में कॉलेज में नामांकन ली जाएगी।

क्रिकेट नाइट मैच में लालगढ़ ने मारीबाजी

—- विधायक ने कहा खेल से खिलाड़ियों की योग्यता में आती है निखार

बेतिया : बाबा चित्रधन नाथ क्रिकेट ग्राउंड में क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया गया। टूर्नामेंट में विधायक मदन मोहन तिवारी एवं ब्रह्मण संस्कार मंच के जिला अध्यक्ष अमित कुमार पांडेय मौजूद रहे। इस दौरान दोनों अतिथियों ने टूर्नामेंट से पूर्व फीता काट कर मैच का शुभारंभ किए तथा खिलाड़ियों से हाथ मिलाकर परिचय भी लिए। मैच सर्वप्रथम पारस पकड़ी और मिर्जापुर के बीच खेला गया। जिसमें पारस पकड़ी की टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 6 रन से विजयी हुई। वहीं दूसरी पाली नाइट में खेली गई। नाइट मैंच में चनायन बांध व लालगढ़ के बीच मुकाबला हुआ। जिसमें लालगड़ की टीम ने 39 रन से चनायन बांध का शिकस्त दी। इस दौरान विधायक मदन मोहन तिवारी ने खिलाड़ियों का हौसला अफजाई किया। उन्होंने कहा कि खेल से खिलाड़ियों की प्रतिभा में निखार आती है। उनकी योग्यता व क्षमता सबके सामने आती है और उन्हें आगे बढ़ने का मौका मिलता है। मौके पर अमन शुक्ला, गोलू पांडेय, आशीष मिश्रा, आकाश कुमार, बाल्मिकी भारद्वाज, सर्वेश शुक्ल, प्रताप कुमार आदि मौजूद रहे।

संत तेरेसा बालिका विद्यालय में विधिक जागरूकता शिविर आयोजित

 

कार्यक्रम में उपस्थित पदाधिकारी

छात्राओं से पीड़ित मानवता की सेवा व सुरक्षा करने का दिलाया गया संकल्प

बेतिया : जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव सह न्यायाधीश योगेश शरण त्रिपाठी ने कहा कि मानवाधिकार की रक्षा करना हम सबकी जिम्मेवारी है। इसके लिए हमें सजग रहना होगा। ताकि, मानवाधिकार कोई उल्लंघन ना कर सके। संविधान ने इस दिशा में हमे पर्याप्त मौलिक अधिकार प्रदान किया है। समता का अधिकार, स्वतंत्रता का अधिकार, धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार, शोषण के विरूद्ध आवाज उठाने का अधिकार प्रदान किया है। वे जिला विधिक सेवा प्राधिकार के तत्वावधान में नगर के संत तेरेसा बालिका विद्यालय में सोमवार को आयोजित विधिक जागरूकता शिविर में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि बालिकाओं को भी मानवाधिकार की जानकारी होनी चाहिए। उनके अगल-बगल में उनकी जानकारी में कोई मानवाधिकार का उल्लंघन हो रहा है, तो इसकी सूचना वे पुलिस को दे ही साथ-साथ जिला विधिक सेवा प्राधिकार को भी दे। मौके पर बालिकाओं ने मुख्य वक्ता योगेश शरण त्रिपाठी से मानवाधिकार से जुड़े कई सवाल किए। इन सवालों का जवाब न्यायाधीश योगेश शरण त्रिपाठी ने शिक्षक के अंदाज में बड़ी सहजता से दी। इसके पूर्व बालिकाओं ने पदाधिकारियों का स्वागत फूलों का गुलदस्ता देकर किया। उन्होंने ने भी बालिकाओं को गुलाब सौंपे और जीवन में सफलता हासिल करने का आशीष दिया। बालिकाओं ने इस अवसर पर कैंडल जलाए और मानवाधिकार की रक्षा किए जाने की शपथ ली। कार्यक्रम का शुभारंभ विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव ने दीप प्रज्जवलन कर किया। दीप प्रज्जवलन में उनका साथ संत तेरेसा बालिका उच्च विद्यालय की प्राचार्य सिस्टर प्रफुल्ला, अधिवक्ता रमेश चंद्र पाठक, राकेश डिक्रूज आदि ने दिया। कार्यक्रम में अधिवक्ता रमेश चंद्र पाठक, सुनील डिक्रुज, प्राचार्य सहित वक्ताओं ने अपने विचार रखे।