How to weight gain and manage your health

क्या आपका health बहुत ही down है? क्या आप Weight gain करना चाहते है? या आपको healthy होना चाहते है | आप अपना health  को ठीक करना चाहते है या अपने आप को फिट रखना चाहते है|

 

अगर आप अपना health Gain करना चाहते है तो आप बिलकुल सही जगह पर है| यहाँ हम आपको health Gain करने का सबसे बेहतर Tips बताएँगे जिससे आप खुद को बिलकुल Fit कर सकते है|

 

जैसा कि आप जानते है की अत्यधिक मोटापे की तरह अत्यधिक दुबलापन भी हमारे सेहन के लिए हानिकारक होता है| जब हम ज्यादा दुबले हो जाते है तो हम सोंचते है कि हम तला हुआ या फास्टफूड खा के अपनी सेहत बना सकते है लेकिन ये तरीका बिलकुल गलत है|

 

क्यूंकि आप जब फास्टफूड या तला हुआ खाना खाते है तब आपकी पाचनशक्ति को ऐसे भोजन को पचाने में बहुत problem होती है और इस तरह से आपकी पाचनक्रिया ख़राब हो जाती है और आप बीमार पड़ जाते है|

 

Required Foods for Weight Gain

यहाँ हम आपको कुछ weight gain के लिए Tips बताएँगे जिसे आप रोज Follow करके आसानी से health ठीक कर सकते है|

 

आप 2 मोटी और बड़ी size का या 3 छोटे size का केला ले केर उसे काट ले| अब आप 2 चम्मच किशमिश रख ले और एक गिलास दूध ले ले| अब दूध, केला और किशमिश का सेक बनाये और फिर इसमें 2-3 इलाइची को powder बना के मिलाये और रोज सुबह में इसका सेवन करे|

 

  • केला में कैलोरी, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम और पोटैशियम होता है जो हमे Energy देता है और हमारे weightको बहुत ही जल्दी बढ़ता है|
  • दूध में rich amount of protein होता है जो हमारे Body को तेजी से grow होने में मदद करता है|
  • किशमिश में Faty Acid होता है| इसमें Soluble Dietary fiber, Vitamin और Minerals होता है जो हमारे health को promot करता है|
  • इलाइची हमारे immunity system को boost करता है और हमारे पाचन क्रिया को भी improve करता है|

 

Health chart for weight gain

Diet Chart for weight Gain

 

अगर आप सच में अपना weight gain करना चाहते है तो आपको अपना एक Diet Chart जरुर चाहिए| और उस चार्ट को daily Follow करना चाहिए|

 

  • सुबह उठ के आप Exercise करे और exercise के तुरत बाद जैसा की मैंने आपको ऊपर बताया ठीक उसी तरीके से Shake बनाये और उसे पिए ऐसा करने से आपका Energy loss नहीं होगा|
  • सुबह में 8 बजे तक heavy breakfast करे|
  • ब्रेकफास्ट और lunch के बीच में आप एक bawl में Healthy दाल खाए| दाल को पत्ता गोभी, पालक का पत्ता, टमाटर डाल के बनाये|
  • दिन में 12 बजे तक lunch कर ले| खाना हमेशा पेट भर के खाए|
  • Dinner से पहले आप 2 egg daily खाए| Dinner early night करे|
  • अगर आप शाकाहारी है तो आप पनीर या सोयाबीन खा सकते है|
  • खाने के बाद चाए या कॉफ़ी बिलकुल नहीं पिए और रात को एक ग्लास दूध जरुर पिए|
  • खाना टाइम पर खाए और पर्याप्त मात्र में खाए|
  • खाना के साथ-साथ exercise जरुर करे| इससे आपके body में जो foods है, उसके essential nutrients को आपका body absorb करेगा, और खाना पचाने में मदद करेगा|
  • नींद पर्याप्त मात्र में ले अर्थात अच्छे से सोये और अगर आपको नींद आने में दिक्कत होती है तो रोज एक ग्लास दूध में थोडा सा हल्दी डाल के सोने से पहले इसका सेवन करे|

 

 

अगर आप बहुत ही ज्यादा दुबले है और जल्द-से-जल्द health recover करना चाहते है तो आप Date (खजुर) का सेवन करे| रोज कम-से-कम 8 खजुर खाए| और अगर आप अब भी संतुस्ट नहीं है तो खजुर को गरम करे और उसमे गाये का घी साल के खाए|

 

अतः इस tips को follow करके आप बहुत जल्दी अपने सेहत को ठीक कर सकते है और अपना weight gain कर सकते है|

 

 

Sauna Bath आपके Health के लिए है बहुत ही लाभकारी अतएव यह वजन कम करने के साथ-ही-साथ आपको रक्तचाप से होने वाले मौत से भी सुरक्षा करेगा|

सप्ताह में 4 से 7 दिनों के (SAUNA BATH) सॉना स्नान का दौरा करने वाले लोग सप्ताह में सिर्फ एक बार जाने वाले लोगो की तुलना में स्ट्रोक का 61% कम जोखिम दिखता हैं|

 

फिनलैंड में लोग, जो नियमित रूप से सौना स्नान (SAUNA BATH) करते हैं, उन लोगों की तुलना में बहुत कम लोग स्ट्रोक जैसे भयानक जोखिम का सामना करते हैं, जैसा कि बुधवार को फ़िनलैंड के एक अध्ययन सभा में कहा गया था।सॉना स्नान फिनलैंड की संस्कृति का महत्वपूर्ण अंग है। फिनलैंड की 54 लाख की जनसंख्या में 30 लाख से भी ज्यादा सॉना हैं, जिसका मतलब है कि हर घर में औसतन कम से कम एक सॉना है। फिनलैंड के लोग हमेशा से मानते हैं

 

Sauna Bath  के बहुत से स्वास्थ्यवर्धक लाभ हैं-

 

ऐसा स्नान करने से शरीर में रक्त का संचालन अच्छा होता है और  तनाव से मुक्ति मिलती है जो दिल को स्वस्थ रखने में बहुत मदद करता है।

मांसपेशियों को आराम मिलने के कारण यह अर्थराइटिस के रोगी को दर्द से कुछ हद तक राहत दिलाने में भी बहुत मदद करता है।

इस प्रकार से स्नान से शरीर का तापमान बढ़ जाता है जिससे रक्त वाहिकायें (blood vessels) खुल जाती है। जिसके कारण शरीर से विषाक्त पदार्थपसीना के रूप में बाहर निकल जाता है।

पसीना निकल जाने के कारण यह त्वचा को भी स्वस्थ रखने में मदद करता है।

इस स्नान से शरीर के मांसपेशियों को आराम मिलता है जिसके कारण एन्ड्रोफिन्स (endorphins) निकलता है जो अच्छी नींद आने में मदद करता है।

सॉना स्नान के दौरान पसीना के रूप में ऊर्जा या एनर्जी काखपत होता है। फैट और कार्बोहाइड्रेड का खपत इस ऊर्जा के संचार में खत्म होने से यह वज़न घटाने के प्रक्रिया में मदद करता है।

जर्मन के वैज्ञानिकों के अध्ययन के अनुसार स्टीम बाथ करने से इन्फ्लूएंजा और कोल्ड के कष्ट को भी कुछ हद तक राहत पाया जा सकता है।

इन सबके अलावा सॉना स्नान दिल की बीमारी से होने वाले मौत को खतरे के संभावना को कम करने में मदद करता है।

 

निष्कर्षतः जनसंख्या आधारित कुओपियो इस्केमिक हार्ट रोग जोखिम फैक्टर (केआईएचडी) अध्ययन पर आधारित हैं और फिनलैंड के पूर्वी हिस्से में रहने वाले 53 से 74 वर्ष की आयु के 1,628 पुरुष और महिलाएं शामिल है| शोधकर्ताओं ने पाया कि व्यायाम, उच्च कोलेस्ट्रॉल, धूम्रपान और मधुमेह सहित स्ट्रोक जोखिम को प्रभावित करने वाले अन्य कारकों के समायोजन के बाद भी लाभ जारी रहा|

 

ब्रिस्टल विश्वविद्यालय के अध्यापक लेखक सेटर कुनसुटर ने कहा, “ये परिणाम रोमांचक हैं क्योंकि वो लोग जो विश्राम और आनंद के लिए Sauna का उपयोग करते हैं, वे आपके संवहनी स्वास्थ्य पर भी लाभकारी प्रभाव डाल सकते हैं।”

“सौना में रक्तचाप कम करने का असर पड़ता है, जो स्ट्रोक जोखिम पर लाभकारी प्रभाव को कम कर सकता है।”

पिछले अध्ययनों ने सौना उपयोग को उच्च रक्तचाप,  डिमेंशिया और कार्डियोवैस्कुलर बीमारी को मृत्यु के लिए कम उत्तरदायी ठहराया है|

 

फिनलैंड के पूर्वी हिस्से में 53 से 74 वर्ष के आयु वर्ग के लोगों को नामांकित किया गया|

उम्र, लिंग, मधुमेह, बॉडी मास इंडेक्स, रक्त लिपिड, शराब की खपत, शारीरिक गतिविधि और सामाजिक-आर्थिक स्थिति जैसे परंपरागत स्ट्रोक जोखिम कारकों को ध्यान में रखते हुए भी सहयोग जारी रहा। पुरुषों और महिलाओं में संघ की ताकत समान थी।

विशेषज्ञों का कहना है कि कुछ लोगों को सौना से बचना चाहिए, जिनमें हाल ही में दिल का दौरा पड़ा था, अस्थिर एंजेना वाले लोग, और कम रक्तचाप वाले बुजुर्ग लोग।

 

 

फोन स्कायर: क्या आपका फोन आपके मस्तिष्क को ज़प कर रहा है? विशेषज्ञों का कहना है कि घातक मस्तिष्क ट्यूमर में बढ़ोतरी के लिए मोबाइल को दोषी ठहराया जा सकता है

मोबाइल फोन के संभावित संदिग्ध होने के साथ, हमारे “व्यापक पर्यावरणीय या जीवनशैली कारक” इस प्रवृत्ति के लिए जिम्मेदार होने की संभावना है|


वैज्ञानिकों का कहना है, कि मोबाइल फोन घातक मस्तिष्क ट्यूमर में बढ़ोतरी के पीछे हो सकते हैं। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़े के अनुसार, 1995 से 2015 के बीच इंग्लैंड में ग्लिओब्लास्टोमा के मामले 983 से बढ़कर 2,531 हो गए| वृद्धि सभी उम्र समूहों में थी और निम्न ग्रेड ट्यूमर के मामलों में गिरावट आई थी।

विशेषज्ञों का कहना है कि “व्यापक पर्यावरणीय या जीवनशैली कारक” इस प्रवृत्ति के लिए ज़िम्मेदार होने की संभावना है, मोबाइल फोन एक संभावित संदिग्ध है|

कैंसर ब्रिटेन के बच्चों के अध्ययन नेता अलास्डेयर फिलिप्स ने कहा: “हमने 21 वर्षों से पूरे संसार में जीबीएम में निरंतर और अत्यधिक महत्वपूर्ण वृद्धि देखी है।

“दिलचस्प बात यह है कि हमें मस्तिष्क के सामने और अस्थायी क्षेत्रों में घटनाओं में सबसे ज्यादा वृद्धि हुई। “यह संदेह उठाता है कि मोबाइल और ताररहित फोन का उपयोग ग्लियोमा को बढ़ावा दे सकता है।”

सहयोगी प्रोफेसर डेनिस हेन्शॉ ने कहा: “हमारे निष्कर्ष केवल इलाज पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय इन कैंसर के रुझानों के पीछे तंत्र पर अधिक ध्यान से देखने की आवश्यकता को दर्शाते हैं।”

आमतौर पर, ग्लिओब्लास्टोमा के निदान के दो साल बाद रोगियों का केवल एक तिहाई जीवित रहता है। अधिकांश 14.6 महीने जीवित रहते हैं।

लेकिन आलोचकों ने चेतावनी दी है कि अध्ययन केवल ट्यूमर निदान दर में एक प्रवृत्ति की पहचान करता है और पर्याप्त साक्ष्य प्रदान नहीं करता है कि मोबाइल दोष दे रहे हैं।

नॉटिंघम विश्वविद्यालय के प्रोफेसर कीथ नील ने कहा: “सुझाव है कि मोबाइल फोन का उपयोग ज़िम्मेदार है, उसे प्रमाणित नहीं किया जा सकता है।

“55 वर्ष से अधिक के लोगों के आयु दर में वृद्धि अधिक हुयी है, जो मोबाइल फोन का बहुत कम उपयोग करते हैं, और 1 99 5 में बहुत कम मोबाइल फोन का इस्तेमाल होता था जब जन्म दरें उस ज्यादा हुआ करती थी।”

कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डेविड स्पिगलहेल्टर ने कहा: “पिछले 30 वर्षों में कई चीजें बदल गई हैं और इसलिए मजबूत निष्कर्ष अन्यायपूर्ण प्रतीत होते हैं।”

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के डॉ शेर शाहब ने कहा: “यह पत्र इंग्लैंड में विशिष्ट घातक मस्तिष्क ट्यूमर में वृद्धि के सबूत प्रदान करता है। “विश्लेषण से क्या नहीं दिखाता है, कि मस्तिस्क ट्यूमर की वृद्धि मोबाइल फोन के कारण होती है।”

एनएचएस वेबसाइट लोगों को “आवश्यकता से अधिक” मोबाइल फोन का उपयोग करने से बचने के लिए सलाह देती है और कहती है कि बच्चों को केवल “आवश्यक उद्देश्यों” के लिए उनका उपयोग करना चाहिए।

लेकिन यह कहते हैं: “प्रकाशित शोध की बड़ी समीक्षाओं ने निष्कर्ष निकाला है कि कुल मिलाकर सबूत यह नहीं बताते हैं कि मोबाइल फोन से रेडियो तरंगें स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनती हैं।”

यूके में लगभग 93 प्रतिशत व्यस्क है जो अत्यधिक मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं|

निष्कर्ष जर्नल ऑफ पब्लिक हेल्थ एंड एनवायरनमेंट में प्रकाशित हैं।

हाल के शोध में पाया गया है कि वाईफाई सिग्नल और मोबाइल फोन के संपर्क में एक महिला को गर्भपात का खतरा एक तिहाई से अधिक है।

और पिछले साल एक इतालवी अदालत ने मोबाइल फोन के अत्यधिक उपयोग पर शासन करने का फैसला किया, क्योंकि एक व्यक्ति ने मस्तिष्क ट्यूमर विकसित किया|

How to loss Weight and what is the source of Weight loss कैसे अपने मोटापे को कम करे और अपने वजन को घटायें

अपने वजन को घटाने का सबसे आसन और लाभकारी तरीका


भारतीय व्यंजन विभिन्न मसालों की पेशकश करते हैं, जो न केवल आपकी स्वाद कलाओं को झुकाते हैं बल्कि स्वास्थ्य को सकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं। काली मिर्च, जो सुस्त व्यंजन को चटपटे व्यंजन में बदल सकती है, वजन घटाने में आपकी मदद कर सकती है।

काली मिर्च विटामिन A, C और K तथा खनिजों, स्वस्थ Faty Acid से भरी हुई होती है| और एक प्राकृतिक चयापचय बूस्टर (Metabolism Booster) के रूप में काम करती है, जो इसे वजन घटाने सहित अनगिनत स्वास्थ्य लाभों का भंडार बनाती है। इसमें पाइपरिन भी शामिल है।

अपने भोजन में काली मिर्च दाल के खाना खाने के बाद शरीर से कैलोरी जलता है, नई वसा कोशिकाओं के निर्माण को रोकता है और वसा संचय को दबा देता है।

नैदानिक आहार विशेषज्ञ और पोषण विशेषज्ञ निमामी अग्रवाल और फिट्पास के आहार विशेषज्ञ और पोषण विशेषज्ञ मेहर राजपूत ने मसाले का उपयोग करने के बारे में कुछ सुझाव दिया है:

* काली मिर्च चबाना उसे चुसना: जो लोग काली मिर्च के जलने वाले गर्म स्वाद को सहन कर सकते हैं वे हर सुबह 1-2 मिर्च के कांटे का उपभोग कर सकते हैं। यह आपके चयापचय को फिर से शुरू करेगा।

* काली मिर्च चाय: चाय में ताजा अदरक और 5 डेन कलि मिर्च को पिस के उबल दे और फिर उसे पीये|

* फल और सब्जी सलाद पर इसे छिड़कें: एक मसालेदार के रूप में काली मिर्च का प्रयोग करें और इसे अपने पसंदीदा सलाद पर आसानी से छिड़क दें। यह न केवल आपकी प्लेट में एक अतिरिक्त स्वाद जोड़ता है बल्कि वजन घटाने में भी सहायता करता है।

* इसे अपना रोजाना पेय जोड़ें: जब कभी भी आप ग्रीष्म ऋतू में निम्बू का शरबत पिए तो काली मिर्च के पाउडर को शरबत में एक चुटकी मिलाये और इससे ताज़ा मसाला-निम्बू-पानी- शरबत बना के पीये| यह न केवल आपका Weight Loss करेगा, बल्कि स्वस्थ आंत और प्रतिरक्षा के लिए भी बहुत ही लाभकारी साबित होगा |

* काली मिर्च का तेल: सादे पानी के गिलास में 100 प्रतिशत शुद्ध काली मिर्च का तेल डालें और नाश्ते से पहले इसका उपभोग करें या इसे सलाद ड्रेसिंग के रूप में इस्तेमाल करने का एक और विकल्प है।

* काली मिर्च, नई वसा कोशिकाओं को रोकता है: काली मिर्च प्लाज्मा और लिपिड प्रोफाइल में फैटी एसिड, ट्राइग्लिसराइड्स, फॉस्फोलाइपिड्स और कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने में मदद करता है। यह अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने और शरीर में नई वसा कोशिकाओं के गठन को कम करने में भी मदद करता है।

एक ‘Silent Killer’ के लिए देशव्यापी स्क्रीनिंग Global Drive  में High Blood Pressure के लिए 300,000 भारतीयों की जांच की जाएगी

एक राष्ट्रव्यापी सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियान इस महीने High blood pressure के लिए भारत भर में 300,000 से अधिक लोगों को अनियंत्रित High blood pressure का पता लगाने के लिए दूसरी वैश्विक पहल के हिस्से के रूप में जांचने की कोशिश करेगा, एक विकार डॉक्टर अक्सर इसे “मूक हत्यारा यानि Silent Killer” कहते हैं।

मई Measurement महीने 2018 नामक अभियान और बुधवार को लॉन्च किया गया, इस पहल से जुड़े चिकित्सकों ने कहा है कि मरीजों के बड़े अनुपात में अनियंत्रित या खराब इलाज के कारण समय पर निदान और High blood pressure के पर्याप्त नियंत्रण की आवश्यकता पर प्रकाश डाला जाएगा।

भारत भर में कई हजार डॉक्टरों को सार्वजनिक स्वास्थ्य फाउंडेशन ऑफ इंडिया (पीएचएफआई), इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) और एसोसिएशन ऑफ फिजियंस ऑफ इंडिया द्वारा समन्वित अभियान में भाग लेने की उम्मीद है। यह रोगियों और जनता के सदस्यों को High blood pressure के लिए “अवसरवादी स्क्रीनिंग” प्रदान करेगा।

आईसीएमआर के एक वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ और महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा, “हाइपरटेंशन एक मूक हत्यारा है, लेकिन यह कई रोगियों में अनियंत्रित, इलाज नहीं किया गया है, या खराब नियंत्रित है।”

पहले के अध्ययनों ने सुझाव दिया है कि High blood pressure वाले लगभग आधे रोगियों को अनियंत्रित रखा जाता है, निदान किए गए आधे में से पर्याप्त उपचार नहीं मिलता है, और उपचार पर आधा उनके उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में असमर्थ हैं।

मई 2017 के दौरान पीएचएफआई द्वारा किए गए एक समान अभियान ने पूरे भारत में 280,000 वयस्कों की जांच की थी और High blood pressure से लगभग एक तिहाई पीड़ित पाया था। लेकिन पीएचएफआई में अभियान के संयोजक अरुण जोस ने कहा, लेकिन इस तीसरे में से 50 प्रतिशत अपनी स्थिति से अनजान थे जब तक कि माप नहीं लिया गया।

मई मापन महीने अभियान इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ हाइपरटेंशन द्वारा वैश्विक पहल का हिस्सा हैं, जो डॉक्टरों, चिकित्सकों और शोधकर्ताओं के गठबंधन ने पिछले साल 80 देशों में उच्च रक्तचाप के लिए दस लाख से ज्यादा लोगों की जांच की थी।

पीएचएफआई में रिसर्च के उपाध्यक्ष डोरैराज प्रभाकरन ने कहा, “हाइपरटेंशन विरोधाभासों की एक बीमारी है – इलाज करना आसान है, लेकिन वास्तविक नियंत्रण दर बहुत कम है।”

चिकित्सकों ने चेतावनी दी है कि कुछ डॉक्टर स्वयं अपने मरीजों के खराब अनुवर्ती माध्यम से High blood pressure के अपर्याप्त नियंत्रण में योगदान दे सकते हैं या सफल नियंत्रण प्राप्त करने के लिए पर्याप्त मार्गदर्शन कर सकते हैं।

प्रभाकरन ने कहा कि 160/100 से अधिक blood pressure मूल्यों के निदान रोगियों को निदान पर इलाज किया जाना चाहिए, लेकिन जिन रोगियों के मूल्य 140/90 और 160/100 के बीच हैं, वे मेडिकल थेरेपी की शुरूआत से छह महीने पहले जीवनशैली में बदलाव कर सकते हैं।

उन्होंने कहा, “वजन घटाने, दिन में 30 मिनट के लिए हल्के से शारीरिक व्यायाम, फलों और सब्ज़ियों की खपत में वृद्धि और नमक कम खाने से सभी blood pressure को कम करने में योगदान दे सकते हैं।”

एक वरिष्ठ चिकित्सक और High blood pressure में विशेषज्ञ वेंकट एस राम ने कहा, “मरीजों को मेडिकल थेरेपी शुरू करने की सलाह दी जाती है कि वे blood pressure सीमा के भीतर लौटने के बाद न रोकें।” “हम कभी-कभी इस वाक्यांश को सुनते हैं – ‘थोडा ब्लड प्रेशर है’ – थोडा फ्रैक्चर, थोडा गर्भावस्था, या थोडा ब्लड प्रेशर जैसी कोई चीज नहीं है।”

जानिए निम्बू के क्या-क्या है फायदे

मोटापे कम करने के लिए निम्बू का उपयोग:
आज हम सबसे ज्यादा अपने health के वजह से परेशान रहते है| और उसमे भी सबसे ज्यादा अपने मोटी चर्बियों से, जो हमे आन्तरिक रूप से बीमार और बहरी रूप से बदसूरत कर देती है|निम्बू से हम हमारे मोटापे को घटा सकते है|

अपने मोटापे को कम करने का सबसे आसान तरीका: एक निम्बू को ले और उसे बीचों बिच दो बराबर भाग में काट ले| अब एक छोटे ग्लास में एक ग्लास गुनगुने पानी ले और उसमे निम्बू के एक भाग को अच्छी तरह से निचोड़ दे| आप इसका सुबह और शाम दोनों वक़्त इसका सेवन करे| इस तरह से गुनगुने पानी में निम्बू मिला के रोज पीने से एक महीने में आपका 10kg weight loss हो जायेगा| और आप बिलकुल फिट नजर आयेंगे|

अगर आप चाहे तो शहद भी निम्बू पानी में मिला सकते है| लेकिन आज बाजार में शहद के जगह पर आपको चीनी और गुण का मिश्रण मिलेगा| जो मोटापे को घटने के जगह पर और ज्यादा बढा देती है| इसलिये अगर आपके पास शुद्ध शहद हो तभी मिलाये वरना केवल निम्बू पानी का ही सेवन करे|

Pimple और काले धब्बे के लिए निम्बू का उपयोग:
Pimple के नुकशान

Pimple हमारे चेहरे पर एक छोटे से खुरदुरे दाने के रूप में नजर आती है| जो हमारी चमकती हुयी त्वचा को बेरंग और बेढंग बना देती है| Pimple 18-25 वर्ष के लड़कियों या लड़कों को normally होती है| कभी-कभी 18 वर्ष से कम या 25 वर्ष से ज्यादा के लोगो को भी होती है| यह हमारे पेट की गर्मी या Digesting Problem की वजह से होती है|

कैसे पहचाने pimple को
हमारे चेहरे पर Pimple हो जाती है और हम fashwash करते है या उसे छुते है| तो वह काले धब्बे के रूप में उभर के नज़र आती है| Pimple के दाने जब चेहरे पर होती है तो वह उपर से पीले रंग की नज़र आती है| थोड़े ही वक़्त बाद जब वह दाने कम होने लगती है तो वह कुछ भूरे या लाल नज़र आती है लेकिन जब वह पूरी तरह ख़त्म हो जाती है तो वह काले धब्बे छोड़ जाती है|

धुप से हो जाती है त्वचा Ruff और Dull
हम रोड पर जाते है तो धुल और Pollution की वजह से हमारे त्वचा की shining खत्म हो जाती है| और हमारी त्वचा Ruff और Dull हो जाती है| जब हम धूप में जाते है तो हमारी त्वचा जल जाती है| और जलने की वजह से काले धब्बे जैसी नज़र आती है जिससे हमारे चेहरे की सुन्दरता खो जाती है|

काले धब्बे और Pimple से छुटकारा पाने के उपाए
ज्यादातर लोग जो Pimple और काले धब्बे रुखी त्वचा से परेशान है| वे एक निम्बू ले और उसे पूरी तरह से निचोड़ ले| फिर एक छोटा सा Bawl ले, और उसमे दो टेबल स्पून निम्बू के रस को रखे| फिर आधी चम्मच हल्दी पाउडर ले, और एक चम्मच शहद ले और फिर इनको अच्छे से मिलाये| मिलाने के बाद चेहरे पर इसका लेप लगाये|

½ घंटे तक इन्हें सूखने दे और फिर हलके गुनगुने पानी से अपने चेहरे को धो ले| ऐसा करने से आपके चेहरे में shining आएगी और आपको काले धब्बे और Pimple से छुटकारा मिलेगी| निम्बू हमारे चेहरे के छोटे-छोटे नगण्य छिद्रों में जाती है और गन्दगी को साफ करती है|

निम्बू से अपनी पीली दांतों को सफ़ेद करे
हम कही Party में या किसी Ceremony में जाते है| तो हम हमारी मुस्कान को अपनी पिली और भद्दे दांतों की वजह से छुपा लेते है| दांतों पे पीलापन पानी के वजह से या अच्छे से दांत नहीं साफ करने के वजह से आती है|

दांतों को साफ करने के लिए आप एक निम्बू ले| और उसे दो भागो में काटें, फिर आधी निम्बू को निचोड़ ले| और उसमे थोड़ी सी नमक डाल ले और निम्बू को नमक के साथ मिलाये| मिलाने के बाद ब्रश को निम्बू और नमक में भींगा के दांतों पर Apply करें| ऐसा करने से आपका दांत बिलकुल सफ़ेद और चमकदार हो जायेगा और फिर आप खुल के हंस पाएंगे|

Developing a Healthy Lifestyle with Proven Green Tea Health Benefits

Green tea is a popular beverage in the entire world today. Originated from the Camellia Sinensis plant, it is Native to China and India. However, the immense green tea health benefits have grown its popularity in the American countries too.

You will find diverse variants of the green tea. This is all because, after cultivation, the green tea leaves are oxidised at various levels and undergo different processing methods. This leads to diverse variants of the green tea in the market. Today, green tea health benefits are a huge hype among the fitness freaks. Let us have an overview of how and why green tea is so beneficial.

How is green tea good for health?
Green tea has the necessary ingredients that evade various diseases. It helps in forming free radicals in the body that protect damaging of cells and modules. An antioxidant called Epigallocatechin Gallate, EGCG helps in fighting various diseases in the body. An abundance of the EGCG makes green tea the healthiest beverage in the world. Furthermore, it has a few minerals that help sustain our health. Loaded with multiple bioactive compounds, green tea health benefits are tremendous for the body.

Shopping Tip: When you buy a packet of Green Tea leaves, try opting for a higher quality brand. The reason here is the lower quality brands have excess levels of fluoride. Therefore, you may compare the fluoride component essentially.

Let’s now look at the key green tea health benefits:
Green tea health benefits in preventing cancer

Cancer is one of the prominent reasons for deaths on earth. However, green tea reduces the cancer risks. Studies show that it is responsible for lowering breast cancer by 22% in women. Prostate cancer found in most of the men is observed to have reduced by 48%. Further, women have 57% lower risks of having colorectal cancer. A study in China involving 69710 women proves it.

The National Cancer Institute has proved that the polyphenols present in the green tea contribute to lowering the tumour growth. It protects us against the ultraviolet UVB radiation damages. The cancer rates in countries where green tea is highly consumed are pretty less compared to other countries.

Green tea health benefits include protection from the breast, bladder, bowel, ovarian, lung, oesophageal, skin, prostate and stomach cancer. The polyphenols kill the cancer cells. This stops the cell growth leading to spreading of cancer in the entire body. Note, we cannot say that green tea cures cancer. However, it definitely has the power to prevent oneself from cancer. Having 2 – 5 cups of green tea a day is ideal for consumption.

 

 

Green tea health benefits in preventing heart problems
The Journal of American Medical Association published in 2006 states that the green tea can evade cardiovascular diseases. A study in 1994 took place for 11 years. It examined 40,000 Japanese participants ageing between 40 to 79. These participants took a minimum of 5 green tea cups every day. It was ultimately seen that these people literally had lower risks of death due to cardiovascular issues compared to people who consumed less or not at all.

The polyphenol compounds in green tea called catechism bring the good effect leading to strengthening the cardiovascular system. Thus, green tea health benefits play a prominent role in preventing heart problems.

 

Type 2 Green Tea reduces diabetes
Green tea helps in lowering the blood sugar levels. Research shows 42% lower risk of diabetes in Green tea consuming humans. With type 2 diabetes, the cells in the body fail to absorb the blood sugar or glucose efficiently due to an illness termed as insulin resistance. This glucose is the main source of energy in the body. The insulin resistance elevates the level of the blood glucose, technically termed as hyperglycaemia, eventually increasing the risk of diabetes, kidney failure, heart disease and nerve damage.

Now, as per the Mayo Clinic, when you intake food or drinks, they may dramatically affect the blood sugar levels.

The Harvard TH Chan School of Public Health also concludes that added sugar is one of the prominent reasons behind obesity and epidemic diabetes. This added sugar is found highly in soda, sports drinks, fruit juice, etc. At this very point in time, green tea is something you can add to your diet since the green tea health benefits include stabilising blind sugar levels in the body.

Now the green tea can be consumed in a variety of ways. As per the US Department of Agriculture nutrition data, a plain cup of green tea from a steeped bag has 0 calories. This concludes that green tea is a perfect alternative to the sugary cold, soda and energy drinks.

Sandra Arevalo, MPH, RDS is a certified diabetes educator based in Hilton Head, South Carolina. He states, that if you lose weight, you tend to enhance your insulin sensitivity thus leading to a lower blood sugar level in the body. On the same verge, a study was conducted and published in the Journal of Research in Medical Sciences. The study was conducted with 63 people with type 2 diabetes while they happened to give different doses of green tea. The research showed that the people drinking 4 cups of green tea a day were prone to more weight loss and a lower blood pressure. Linking the two, we can say that green tea is surely a perfect drink for people to handle type 2 diabetes.

 

 

How much Green tea should you drink if you have diabetes?
Research says that the green tea does not impact negatively on the health as long as you are adding sugar to it. Winonah Hoffman, RN, the nursing manager at Austin Regional Clinic at Austin recommends that one shouldn’t consume green tea with sugar. However, you may consider using sugar alternatives or drinking unsweetened green tea such as stevia.

Now Stevia is a substitute for sugar that originates from the leaves of the Stevia plant. It has no carbs and not more than 1 calorie in a packet. While there are many low-calorie sweeteners, stevia is the one that shows lower blood sugar levels and insulin levels post your meals.

If you are finding the green tea too bitter for yourself, consider adding stevia and just forgo honey or sugar.
Another thing that diabetes patients have to keep in mind is the presence of caffeine in the green tea. The caffeine can affect the blood sugar levels and the blood pressure. The blood pressure is a huge concern for people having type 2 diabetes as per the American Heart Association since they are 2 – 4 times more likely to die of a heart disease compared to the ones who do not have type 2 diabetes.

If you want to check how you respond to the caffeine in the green tea, first check your blood sugar level before intake and then check it two hours later. If you are in the target range at both the times, then you haven’t been out of the limit. You may simply use the home blood pressure cuff to monitor the same.

 

Green Tea Health Benefits for Better functioning of the brain
Green tea has the caffeine component though not as much as coffee. The present caffeine levels help progress the brain functioning. Further, it leads to an improved mood, vigilance, memory and reaction time.

Likewise, it has amino acid L-thiamine that crosses the blood-brain barrier. Now, the blend of caffeine and the acid together help in cultivating the brain activeness.
Research proves that the old age people drinking green tea are the best survivors of brain damages.

सिर्फ एक महीने में Weight Loss करने का सबसे आसान तरीका

अगर आप अपने मोटे शरीर और मोटी चर्बियों से परेशान है , आपका interest  Weight Loss करने में है तो आप सही जगह पे है जहां Weight Loss का तरीका आपको बताया जायेगा | आपको अपनी लाइफस्टाइल को बदलना होगा| हम अक्सर अपने मोटापे को कम करने के लिए खाना कम कर देते है या fasting शुरू केर देते है|

आपको पूर्ण विश्वास है की इससे आपका Weight Loss हो जायेगा | आपको बता दे की ये एक बहुत ही गलत तरीका है, इस तरह से खाना नहीं खाने से हम शारीरिक और मानसिक तरीके से कमजोर हो जाते है और दूसरी बात यह है, की हम हम दिन भर जब बिना कुछ खाए रहते है तो हमे बहुत भूख लगा होता है और हम बहुत ज्यादा खाना खा लेते है जिससे हमारी Weight Loos नहीं बल्कि और भी ज्यादा बढ़ जाती है|

 

अगर वाकई में आपको Weight Loss करना है तो फिर इस chart को पढ़े और इसे रोज follow करे|

 

1. जब सुबह आप जागते है तो ब्रश करे, बिना कुछ खाए yoga करे जैसे Suryanamaskar| exercise के आधे घंटे तक पानी न पिए|
2. Exercise के 1 घंटे बाद आप रोज fruit salad और बिना oil के heavy नाश्ता करे|
3. Lunch में rice और bread दोनों खाए लेकिन लेकिन जीतना भूख हो उससे थोडा कम खाए|
4. snakes में जो कुछ भी आपको पसंद हो वो खाए|
5. Dinner में भूख से आधी खाना खाए, ताकि सुबह जागने में आलस न हो|
6. Diet में आप Proteins, Vitamins जरुर ले ये आपके diet को balance करेगा|
7. ठंडा पानी, Ice-cream जैसे foods का सेवन बिलकुल न करे|
8. किसी भी पार्टी में बिना कुछ खाए न जाये|
9. नमक और चीनी का खाने में कम इस्तेमाल करे|
10. खाने में ज्यादा-से –ज्यादा fruits और vegetables का प्रयोग करे|
इन 10 तरीको को use करे और अपने lifestyle को बदले| आप अपने मोटापे से जरुर छुटकारा पाएंगे|