बेतिया: कुमारबाग थानाध्यक्ष राजीव कुमार रजक और समाजसेवी मनीष कश्यप ने रविवार को कुमारबाग चौक पे मास्क वितरण किया। साथ में बेवजह सड़कों पर घूम रहे लोगों को लॉक डाउन का पालन करने के लिए समझाया। वहीं जो बिना मास्क सड़कों पर घूम रहे थे, उन्हें मास्क भी दिया गया और मास्क के उपयोगिता बारे में बताया गया। थाना के सभी पुलिस को भी एक-एक अतिरिक्त मास्क दिया गया। थानाध्यक्ष राजीव कुमार रजक ने बताया कि हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि स्थानीय लोग लॉक डाउन के नियमों का पालन करें और अपने घरों में ही रहे। जो बेवजह सड़कों पर निकल रहे हैं हम उन्हें घर में रहने के लिए समझा रहे हैं। मनीष कश्यप ने बताया कि देश को कोरोना से बचाने के लिए सरकार, प्रशासन और डॉक्टर दिन रात मेहनत कर रहे हैं। हमारा भी फर्ज बनता है कि हम इनका भरपूर साथ दे। इसलिए आज हमने 500 मास्क का वितरण कुमारबाग थाना क्षेत्र के अंतर्गत कराया गया। आगे भी हम अलग-अलग क्षेत्रों में मास्क का वितरण स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर करेंगे।

मास्क देते मनीष कश्यप व अन्य

बेतिया :युवा सेना के प्रदेश प्रमुख कुंदन पांडेय ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्रकर लिख अनुरोध किया है कि जिस प्रकार पूरे देश और पूरी दुनिया में कोरोना वायरस को लेकर मानव जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है। पूरी दुनिया की आर्थिक हालत बेहद खराब है इसी को देखते हुए किसानों के गन्ने का सीघ्र भुगतान की जाए।किसानों को आर्थिक पैकेज,दो माह का बिजली बिल और छात्रों की दो माह की फीस माफ करने की मांग की है। श्री पांडेय ने लिखे पत्र मे कहा है कि किसानों का मुख्य आय कृषि है। कोरोना से निपटने के लिए सरकार ने पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया है। किसान अपना गन्ना मिलों में गिराकर घर मे बैठे है। इस समय किसानों को गन्ना भुगतान की सख्त जरूरत है। इसको देखते हुए चीनी मिल से एक सप्ताह के अंदर बकाया गन्ना मूल्य का भुगतान सुनिश्चित कराने का आदेश दिया जाय। नही तो ऐसे में किसानों भुखमरी का सिकार होने के कगार पर है। श्री पांडेय ने लिखा है कि ताजा परिस्थितियों में सरकार को किसानों को आर्थिक पैकेज व सभी लोगों के बिजली का बिल माफ किया जाए। लॉकडाउन की वजह से किसानों के फसल बर्बाद हो रहे है। वहीं लोगों के कारोबार बंद है, लोग आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। बंदी की वजह से लोगों के सामने परिवार चलाने का संकट है। ऐसे समय प्रदेश में घरेलू बिजली के कम से कम दो माह के बिलों को सरकार माफ कर दे। वही उन्होंने कहा कि प्रदेश में जितने भी प्राइवेट स्कूल हैं, उन्हें यह निर्देशित किया जाए कि वे अगले दो महीनों तक स्कूलों की फीस माफ करें। निजी स्कूलों को जो फीस को लेकर अभिभावकों पर दबाव बना रहे हैं उन्हें रोका जाए।क्योंकि इस समय बच्चों की फीस जमा कर पाने में परेशानी होंगी।

कुंदन पांडेय, प्रदेश प्रमुख- युवा सेना बिहार
युवा सेना द्वरा मुख्यमंत्री को लिखा गया पत्र

बेतिया : पश्चिम चंपारण निवासी व ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय जयपुर के एजुकेशन एंड मेथाडोलॉजी के डीन एवं कोरोना पर अनुशंधान के लिए विश्वविद्यालय स्तर पर गठित टीम के सदस्य डॉ. शोभा लाल ने बताया कि दुनिया में कोरोना संक्रमण से हुई मौतों का प्रमुख कारण विटामिन-डी की कमी के रूप में भी सामने आया है। यह रिपोर्ट हमें भी सतर्क कर रही है, क्योंकि देश में भी बड़ी आबादी विटामिन-डी की कमी से जूझ रही है। शरीर में विटामिन-डी की स्थिति बेहतर करके हम कोरोना वायरस के खतरे को कम कर सकते हैं। ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय के कुशल मार्गदर्शन में अनुसंधान के परिणाम को प्रकाशित करके देश के विभिन्न सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों को भेज दिया गया है। विश्वविद्यालय के संस्थापक व सलाहकार तथा अनुसंधान टीम के मेंटर डॉ. पंकज गर्ग व उनकी टीम ने जो अनुसंधान के बाद मार्गदर्शिका जारी किया है। उसको अपना कर कोरोना से बचा जा सकता है। अध्ययन के दौरान ऐसा पाया गया है कि वायरस से मृत्यु का शिकार हुए मरीजों में विटामिन-डी की कमी मौत का प्रमुख कारण मिली। अंतरराष्ट्रीय जर्नल में यह शोध प्रकाशित हो चुका है। इसके मुताबिक हड्डी-मांस पेशियों में दर्द विटामिन-डी की कमी का लक्षणभर है। विटामिन-डी का शरीर में मल्टीपल रोल है। यह फेफड़े का फंक्शन दुरुस्त रखने में मददगार है, जो कि संक्रमण से भी बचाने में कारगर साबित होता है। अनुसंधान टीम के सदस्य के अनुसार शरीर की कोशिकाओं में रिसेप्टर की बांडिंग होती है। विटामिन-डी इस बांडिंग को मजबूती प्रदान करता है। विटामिन-डी की कमी से सेल्स में मौजूद रिसेप्टर साइक्लिक एएमपी, ऑक्ट 3/4, पी 53 की बांडिंग में कमजोरी आ जाती है। यहीं मौका पाकर वायरस सेल में दाखिल हो जाता है। इसके बाद फेफड़े तक पैठ बनाकर शरीर पर हमला करता है। ऐसे में यदि विटामिन-डी शरीर में ठीक है, तो वायरस से मुकाबला आसान हो जाएगा।

बेस्ट डायरेक्टर और डीन के रूप में चयनित हुए डॉ. लाल
डॉ. शोभा लाल

बेतिया : समाजसेवी चंदन सिंह को बिहार प्रदेश भ्रष्टाचार नियंत्रण एवं जन कल्याण यूथ सेल का प्रदेश सचिव नियुक्त किया गया है। इस संबंध में प्रदेश अध्यक्ष मुमताज अहमद ने पत्र जारी कर श्री सिंह को भ्रष्टाचार के खात्मा के लिए टीम बनाकर काम करने का निर्देश दिया है। श्री सिंह ने बताया कि प्रदेश से भ्रष्टाचार के खात्मा के लिए टीम बनाकर कार्य करूंगा। अब जनता का खून चूसने वाले कर्मचारियों व अधिकारियों के खिलाफ जनांदोलन चलाया जाएगा। कहा कि वह पद की गरिमा में रहकर भ्रष्टाचार उन्मूलन मुहिम के लिए कार्य करेंगे। प्रदेश स्तर पर अपनी टीम तैयार करेंगे। भ्रष्टाचार के खिलाफ युवा शक्ति खड़ी हो रही है। उन्होंने कहा कि भारतवर्ष में करप्शन के खिलाफ जागरूकता लाने का अहम कार्य किया जा रहा है।

बेतिया : शहर के आरएच स्टोन हॉस्पिटल सह गोवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज के डॉ. हिदायतुल्लाह का कहना है कि युवाओं का रवैया उचित नहीं है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए ही लॉक डाउन किया गया है। लॉक डाउन के नियमों का पालन सभी को करना चाहिए। युवा लोग अक्सर सड़कों पर निकल आते हैं। वे यह न समझें कि यह वायरस उन्हें अपनी चपेट में नहीं ले सकता। यह भ्रांति बिल्कुल न पालें। अपना और अपने परिवार के बुजुर्गों की सुरक्षा को सुनिश्चित करें। बेवजह सड़कों पर न निकलें। वायरस से बचाव के लिए जैसे निर्देश दिए जा रहे हैं, उनका कड़ाई से पालन करें। यह युवाओं और उनके परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए बेहद आवश्यक है। प्रधानमंत्री ने जो 21 दिनों तक लॉक डाउन के दौरान सामाजिक दूरी बनाने और अपने घरों पर ही रहने का आह्वान किया है, उसका पूरी तरह पालन किया जाना चाहिए। कोरोना से बचाव आपके ही हाथ में है। जनता क‌र्फ्यू और लॉकडाउन का नियम इसलिए बनाया गया ताकि लोग एक दूसरे के संपर्क में न आएं। कोरोना वायरस साधारण फ्लू का ही एक रूप है। यह वायरस इंसान के नाक, मुंह व आंख के जरिए गले में पहुंचता है और चार दिन गले में रहकर इंसान की कोशिकाओं पर प्रहार कर देता है। इसके अलावा जिस जगह पर वह वायरस विद्यमान है उसे छूने पर भी इंसान संक्रमित हो सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार यह वायरस शरीर में पहुंचने और लक्षण दिखाने में 14 दिनों का समय ले सकता है। हालांकि ताजा शोध में यह बात सामने आई है कि संक्रमण का प्रकोप 24 दिन तक रह सकता है। सबसे बड़ी बात यह है कि लोग खांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें। बार-बार साबुन या सैनिटाइजर से हाथ धोते रहें। अब जबकि कोरोना तेजी से फैल रहा है तो किसी भी वस्तु को छूने के बाद फौरन हाथ धोएं। इस वायरस की अभी कोई प्रभावी दवा ईजाद नहीं हो पाई है, इसलिए घरों पर रहें, सुरक्षित रहें।

इलेक्ट्रो फिजिक्स की नरगिस बनी बिहार टॉपर

बेतिया: इंटरमीडिएट के रिजल्ट का इंतजार परीक्षार्थियों के साथ उनके अभिभावक पूरे शिद्दत से इन्तेजार था । जब रिजल्ट आया तो सफल छात्र खुशी से झूम उठे। बधाइयों का तांता लग गया। ऐसा ही इलेक्ट्रो फिजिक्स के प्रांगण का रहा। याहां सभी छात्रों ने प्रथम श्रेणी से सफलता प्राप्त की है। शहर के जाने माने इस संस्थान में दूसरे दिन रविवार को भी दिन भर जश्न का माहौल बना रहा। छात्र-छात्राओं के परिजन संस्थान में आकर यहां के निदेशक भारत भूषण को बधाई देते रहे। जिनके प्रयास से उनके बच्चों ने कामयाबी हासिल की। बता दें कि इस संस्थान ने प्रतिवर्ष बेहतर परिणाम देकर अपनी एक पहचान बना ली है। निदेशक भारत भूषण ने कहा कि यहां शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चों को बेहतर से बेहतर शिक्षा देकर उन्हें सफल छात्र बनाने का हर संभव प्रयास किया जाता है। उन्होंने बताया कि इस संस्था से नरगिस नवाज इंटर साइंस में 463 अंक लाकर बिहार में पांचवें स्थान प्राप्त की है। वहीं मिकी कुमारी को 448 अंक, पलवी कुमारी को 440 अंक, सालनी कुमारी को 433 अंक, फातिमा खातून को 422 अंक, वसीम सिद्धकी को 413 अंक, श्रेयम प्रासर को 407 अंक, अंजली सोनी को 406 अंक मिले हैं। सभी छात्र-छात्राओं ने संस्थान का आभार प्रकट किया है। साथ ही छात्र-छात्राओं के अभिभावकों ने संस्थान के बड़ी सफलता को सराहते हुए संस्थान के उज्ज्वल भविष्य की कामना की एवं संस्थान के शिक्षकों को आभार प्रकट किया।

स्नातक पार्ट- वन का रिजल्ट जारी

बेतिया: स्नातक टीडीसी पार्ट-वन का रिजल्ट आखिरकार जारी कर दिया गया। टीडीसी पार्ट-वन का रिजल्ट सभी कॉलेजों में भेजा जा रहा है। छात्र अपने कॉलेज में पहुंचकर इसकी जानकारी हासिल कर सकते हैं। इसी के आधार पर प्रमोटेड छात्र अपना परीक्षा फॉर्म भरेंगे। वर्ष 2018 की परीक्षा के लिए 2 जनवरी से फॉर्म भरे जाएंगे। विवि परीक्षा की तैयारी में जुट गया है। सब ठीक रहा तो 7 से 8 जनवरी तक परीक्षा कराई जा सकती है। उल्लेखनीय है कि राजभवन की ओर से लगातार विवि को निर्देश देकर हरहाल में सत्र को नियमित करने के निर्देश दिए गए हैं।

एमजेके व आरएलएसवाई कॉलेज मे नामांकन पर रोक

बेतिया: शहर के एमजेके और रामलखन सिंह यादव कॉलेज में इंटर में नामांकन पर रोक लगा दी गई है। दोनों कॉलेज नए सत्र में इंटर के किसी भी संकाय में नामांकन नहीं ले सकते हैं। वेबसाइट पर शिक्षकों की सूची अपडेट नहीं करने के कारण बिहार बोर्ड ने जिले के इन दोनों कॉलेजों में नामांकन पर रोक लगाई है। बताया जाता है कि उक्त कॉलेजों के प्राचार्य को 22 जुलाई से 31 अक्टूबर के बीच बोर्ड ने शिक्षकों की सूची अपडेट करने का 4 अवसर दिया था। बावजूद कॉलेज के प्राचार्य शिक्षकों की सूची बोर्ड को उपलब्ध नहीं कराई। मामले को गंभीरता से लेते हुए बिहार बोर्ड ने यह कार्रवाई की है।

बोर्ड से मिला 7 दिन का मौका

एमजेके कॉलेज, बेतिया

नामांकन पर लगी रोक हटाने के लिए दोनों कॉलेजों को बोर्ड ने एक और अवसर दिया है। अगर 7 दिनों के अंदर ऑनलाइन हार्ड कॉपी में शिक्षकों की सूची बिहार बोर्ड को मिल जाए तो बोर्ड निलंबन वापसी पर विचार कर सकता है। शिक्षा महकमा से प्राप्त जानकारी के अनुसार अगले 15 दिनों में इस संबंध में स्पष्टीकरण नहीं सौंपने तथा बोर्ड की वेबसाइट पर शिक्षकों की सूची अपडेट नहीं करने वाले दोनों शिक्षण संस्थानों की क्षमता भी निरस्त की जा सकती है। बोर्ड के इस फैसले के बाद दोनों कॉलेजों में हड़कंप मच गया है। शिक्षकों की सूची अपडेट करने की तैयारी शुरू कर दी गई है। एमजेके कॉलेज के प्राचार्य डॉ हरिनारायण ठाकुर ने बताया कि नियत समय में सूची भेजने की तैयारी की जा रही है। उन्हें पूरा विश्वास है कि आने वाले सत्र में कॉलेज में नामांकन ली जाएगी।

संत तेरेसा बालिका विद्यालय में विधिक जागरूकता शिविर आयोजित

 

कार्यक्रम में उपस्थित पदाधिकारी

छात्राओं से पीड़ित मानवता की सेवा व सुरक्षा करने का दिलाया गया संकल्प

बेतिया : जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव सह न्यायाधीश योगेश शरण त्रिपाठी ने कहा कि मानवाधिकार की रक्षा करना हम सबकी जिम्मेवारी है। इसके लिए हमें सजग रहना होगा। ताकि, मानवाधिकार कोई उल्लंघन ना कर सके। संविधान ने इस दिशा में हमे पर्याप्त मौलिक अधिकार प्रदान किया है। समता का अधिकार, स्वतंत्रता का अधिकार, धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार, शोषण के विरूद्ध आवाज उठाने का अधिकार प्रदान किया है। वे जिला विधिक सेवा प्राधिकार के तत्वावधान में नगर के संत तेरेसा बालिका विद्यालय में सोमवार को आयोजित विधिक जागरूकता शिविर में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि बालिकाओं को भी मानवाधिकार की जानकारी होनी चाहिए। उनके अगल-बगल में उनकी जानकारी में कोई मानवाधिकार का उल्लंघन हो रहा है, तो इसकी सूचना वे पुलिस को दे ही साथ-साथ जिला विधिक सेवा प्राधिकार को भी दे। मौके पर बालिकाओं ने मुख्य वक्ता योगेश शरण त्रिपाठी से मानवाधिकार से जुड़े कई सवाल किए। इन सवालों का जवाब न्यायाधीश योगेश शरण त्रिपाठी ने शिक्षक के अंदाज में बड़ी सहजता से दी। इसके पूर्व बालिकाओं ने पदाधिकारियों का स्वागत फूलों का गुलदस्ता देकर किया। उन्होंने ने भी बालिकाओं को गुलाब सौंपे और जीवन में सफलता हासिल करने का आशीष दिया। बालिकाओं ने इस अवसर पर कैंडल जलाए और मानवाधिकार की रक्षा किए जाने की शपथ ली। कार्यक्रम का शुभारंभ विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव ने दीप प्रज्जवलन कर किया। दीप प्रज्जवलन में उनका साथ संत तेरेसा बालिका उच्च विद्यालय की प्राचार्य सिस्टर प्रफुल्ला, अधिवक्ता रमेश चंद्र पाठक, राकेश डिक्रूज आदि ने दिया। कार्यक्रम में अधिवक्ता रमेश चंद्र पाठक, सुनील डिक्रुज, प्राचार्य सहित वक्ताओं ने अपने विचार रखे।

 

बीआरए बिहार विश्वविद्यालय मुजफ्फरपुर

बेतिया : बीआरए बिहार विवि ने टीडीसी पार्ट-वन की परीक्षा के लिए फॉर्म भरे जाने की तिथि घोषित कर दी है। छात्र-छात्राएं बिना विलंब शुल्क के 07 से 15 दिसंबर तक परीक्षा फॉर्म भर सकेंगे।
इस संबंध में विवि ने नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इसमें बताया गया है कि फॉर्म भरने की तिथि संबंधी जानकारी सभी कॉलेजों में भेज दी गई है। सूत्रों के अनुसार बताया जाता है कि राजभवन के निर्देश पर दिसंबर तक सभी लंबित परीक्षाओं का आयोजन करना है। इसी को देखते हुए विवि की ओर से ऐसी घोषणा की गई है।